Thursday, May 30, 2013

ऐ पवन मेरा संदेश देना


ऐ पवन मेरा संदेश देना
और…….
 उनकी भी खुश ख़बर लेना
 ऐ मंद बहती पवन
अपने साथ तुम समेट लेना
महक उनके एहसास की
मेरे प्रिय के आस पास की
मै अकेलेपन से जीत जाऊ
अगर उनका शुभ संदेश पाऊ
तो लौटती पुरवाई में
मुझे यह उपहार ख़ास देना
वतन कि उम्मीद है हमसे
 अभी वक्त माटी को देना है
कफन सर पर बाधा है
पर हृदय में उनके प्यार का गहना है
माना अभी जिस्म कि दूरी है
 पर दिल में सदा उनको ही रहना है
 मेरे स्वप्न, मेरी सोच, मेरी अनभूति
प्रारंभ भी उनसे और अंत भी उनसे
प्रकृति कि दूरियां भी न कर सके दूर
मेरी यादो का तुम हवाला देना
अपने भीने पवन के झोको से
उनके भीगे नयनो को सुखा देना
मै जल्दी वापस आउंगा
 उनकी आँखों में यह खुशी का
 मिलनमय एहसास देना
 ऐ मंद बहती पवन
मेरा यह संदेश देना
 और ……………

 उनकी भी खुश ख़बर लेना
  1. ...

No comments:

Post a Comment