Thursday, May 30, 2013

एक आवाज़

एक आवाज़ जो तुम्हारे हाल को पूछें 
एक कदम जो हरदम तेरा साथ दे दे
एक बात जो अपनेपन का एहसास दे
उस तलाश के कठिन से कठिन फ़ासले
 तय करने को जब दिल तेरा आमादा हो
ख़ुद से उस अजनबी पर भरोसा ज्यादा हो
जिसे देखा बस ख्यालो में क़रीब पाया
अनजान से चहरे में हमसाया सा पाया
इस भीड़ में किस मोड़ पर होगी मुलाकात
तलाश में गुजरेंगी कितनी सुबह कितनी रात
 मायने नहीं रखती जिसके खातिर कोई बात
बस दिलो के तार और उमड़ते जज़्बात
 एक अजनबी से आतुर करने को मुलाकात
यह उम्र की दहलीज़ पर उमगों की सौगात
जो ढूँढती है....
एक आवाज़ जो तुम्हारे हाल को पूछें
 एक कदम जो हरदम तेरा साथ दे दे
   एक बात जो अपनेपन का एहसास दे
  1. ...



No comments:

Post a Comment