Saturday, December 29, 2012

आस्तीन के साँप


  1. समुन्दर के सीने में एक डूबने का डर
    न जाने किस घड़ी कर गया घर
    कस्ती किनारे क्या साहिल को लाये
    जब पेंदी का छेंद ख़ुद को डुबाये
    मौत कही ताक में नहीं थीं बैठी
    आस्तीन के साँप ने इनाम दीं थी
    ... जो कहँ रहे गरिमा बचाओ घर की
    वही नीव रख रहे है नरक की
    सियासी हस्तियां है हर महकमा ग़ुलाम इनका
    भूख और गरीबी भी इनाम इनका
    मन्दिर की घंटिया इनकी और इमाम इनका
    हैसियत-ए दबंगई में नाम इनकाSee more

No comments:

Post a Comment