Wednesday, May 16, 2012

प्यार की कहानी


दरिया देख् कर डूबने का डर सताता है
मौज उसी की जो उस में डूब जाता है
तेरी आँखें भी है सनम झील के माफिक
इसमे डूब के किया जहां से खुदा आफिज
यह दिल रब से अब यही दुआ माँगें
हर जनम तेरी आँखों में पनाह मांगे
दिल के दरिया में डूबने को दिल चाहता है
जो न हासिल सोचके ही दिल डूबा जाता है
तुझसे गुजारिश सदा प्यार की रवानी हो
जिंदगी बस तेरे मेरे प्यार की कहानी हो
क्या वजूद आदमी तो बस आता जाता है
मौज उसी की जो उस में डूब जाता है

No comments:

Post a Comment