Wednesday, May 16, 2012

मेरी उदासिसिया


रात चाँदनी से नहाई
बेला बिखेरती खुश्बू
इस खुशनुमा माहौल में
मेरी उदासिसिया पसरती है
हर तरफ़ चहल पहल
टिमटिमाते सितारों की कतार
धरती पर रौनक चार चांद
पर मन में आह सी उठती है
धरती गगन का संगम
दूर झरनों कि कलकल
मधुर साज़ कि पहल
पर मनमधुर ध्वनि खलती है
तुम साथ नहीं मेरे
तो क्या अन्धेरे क्या उजेरे
किसी से मिलने कि आस् नहीं
मुझे तो आज तन्हाई ही जचती है
हर्ष का अर्थ तुमसे
तुमसे जीवन आकार प्रिय
यदि यह स्वप्न नहीं साकार
तो मुझे हर खुशी झुठी लगती है

No comments:

Post a Comment