Wednesday, April 11, 2012

हाथ की लकीर

बिगड़ कर ही बनती हर हाथ की लकीर

किस अफसोस के कामिल ऐ फ़कीर

कब किस ओर ले जाए यह तक़दीर

मत सोच बुलंद कर अहले ज़मीर

जिंदगी ख्वाब की मुकम्मल तस्वीर

ग़र असल निशाने पर पैबस्त तेरे तीर

हौसलो के जानिब तूही शागिर्द तूही पीर

किसी कि राह् तके तोड़ दे वह् जंजीर

बाद तंग रातो के होगी तेरी सुबह अमीर

बिगड़ कर ही बनती हर हाथ की लकीर

No comments:

Post a Comment