Wednesday, April 11, 2012

हद की दीवानगी

भीगी आँखों में ऐहसासो के बादल
हद की दीवानगी लोग कहते पागल
मै नम आँखों से तेरा नाम लिखूँ
बहते अरमानो की बरसात लिखूँ
दिल वार दिया बस तुझ पर साजन
तुम से ख्वाबों की तस्वीर मनभावन
कैसे तुमको दिल का हाल लिखूँ
तड़पन पर हाय क्या मलाल लिखू
मेरी चाहत बस तुझ संग हर पल
सनम तू मेरी और मै तेरा केवल
तुझे सदियों का सच्चा प्यार लिखूँ
कितना मुश्किल यह इंतज़ार लिखूँ
सागर से भी गहरा प्यार है जानम
मेरी सांसो में तेरा नाम तबस्सुम
मै अपने दिल के जज़्बात लिखूँ
ख्वाईशो की हर सौगात लिखू
भीगी आँखों में ऐहसासो के बादल
हद की दीवानगी लोग कहते पागल
मै नम आँखों से तेरा नाम लिखूँ
बहते अरमानो की बरसात लिखूँ

No comments:

Post a Comment