Monday, March 12, 2012

हमजोली

तेरे रंगों में रंगी
पिया मै तेरी ही हो ली
तू मेरा जिया
और मै तेरी हमजोली
सारे रंग फीके
न रिझाये मोहे होली
चढ़ा रंग तेरा
तू ही खुशियों की झोली
तेरे ही स्पंदन से
प्रिय बसंती मन, दामन, चोली
पूरी की पूरी पिया तेरी हो ली
मोहे न ललचाये निगोड़ी यह होली!
तू मेरा जिया
और मै तेरी हमजोली

No comments:

Post a Comment