Thursday, March 1, 2012

जीवन में संकल्पों का बहुत महत्व है।

जीवन में संकल्पों का बहुत महत्व है।

झुलसाये ये सुर्ख आग चलो उस से पहले
आओ उसी आग के शोलों से मिलकर खेले
माना गहराई समुंदर की पता नहीं अब तक
तो चलो गोता लगाए अंतहीन पाताल तलक
ते़ज आँधिया न हिला दे कहीं ज़र्रा ज़र्रा
क्यो न हवा के रुख रम जाए इस तरह
क्युकी बिना तपे लोहा भी सख्त नहीं होता
और बिना चोट सोना भी आभूषण नहीं होता
तो क्यो न भाग्य के हर फैसले पर मुहर लगाए
बेबसी का रोना क्या, जो बस में करते जाए
क्यो ना हार को हराने का मजा उड़ाया जाए
नासाजी हर वक्त नहीं कब तबीयत बदल जाए
अपने मिजाज कि इबादत ख़ुद ही लिखी जाए
कोई क्या जानेगा, पहले खुदको ख़ुदही जान जाए
अपने रहते ही अपना इतिहास लिखा जाए
खुदी को करे बुलंद इतना कि खुदा भी रहम खाए
यह डर ही है जो फ़ासले मिटाते मौत के नीरज
फिर मौत से बेहतर चुनौतियो को गले लगाया जाए
भरोसा ख़ुद पर अगर तो शायद जिंदगी बदल ही जाए
अगर सही सोच से उठे कदम तो क्यू पीछे लेले
कम से कम अपने भरोसे पर भरोसा कर ले
झुलसाये ये सुर्ख आग चलो उस से पहले
आओ उसी आग के शोलों से मिलकर खेले

No comments:

Post a Comment